दुश्मन को भगाने का टोटका [ सरल और असरदार ]

If you are very upset with your enemy and want to get rid of him, then whatsapp us.

अगर आप अपने दुश्मन से बहुत ही ज्यादा परेशान है और उससे छुटकारा पाना चाहते है तो हमें whatsapp करें |


If you have adopted all kinds of methods and want to get rid of your enemy, then our Tantric Guru ji can solve this problem.

अगर आप हर प्रकार का तरीका अपना चुके है और अपने दुश्मन से छुटकारा पाना चाहते तो इस समस्या को हमारे तांत्रिक गुरु जी हल कर सकते है |


दुश्मन को भगाने का टोटका और दुश्मन का नाश करने का टोटका [ The spell to drive away the enemy and the trick to destroy the enemy ]



1= SHATRU NASHAK MANTRA WITH RED VERMILION [ लाल सिंदूर से शत्रु नाशक मंत्र ]

You will need red vermilion and seven nails for this shatru nashak mantra. You have to adopt this remedy before sleeping at night. First of all, apply red vermilion well on seven nails. After this, keeping those seven nails on a red colored paper in front of you, read the shatru nashak mantra given below.

इस शत्रु नाशक मंत्र के लिए आपको लाल सिंदूर और सात कीलों की आवश्यकता होगी। यह उपाय आपको रात्रि में सोने से पहले अपनाना है। सबसे पहले सात कीलों पर अच्छी तरह से लाल सिंदूर लगा दे। इसके बाद अपने सामने एक लाल रंग के कागज पर उन सातों कीलों को रखकर नीचे दिया गया शत्रु नाशक मंत्र पढ़े।

"Om Agni Washim Namah"
“ ओम अग्नि वाशिम नमः ”


You have to recite this mantra a total of 151 times. After reciting the mantra for shatru nashak mantra, wrap the seven nails well in paper and sleep under your pillow overnight. Next morning throw that paper and nail in the house of the person whom you want to destroy. This shatru nashak mantra trick starts showing its effect immediately.

यह मंत्र आपको कुल 151 बार पढ़ना है। मंत्रोच्चारण के बाद शत्रु नाशक मंत्र के लिए सातों कीलों को कागज में अच्छी तरह से लपेटकर रातभर अपने तकिए के नीचे रखकर सो जाए। अगले दिन सुबह वह कागज और कील उस व्यक्ति के घर में फेंक दे, जिसका आप नाश चाहते है। यह शत्रु नाशक मंत्र टोटका तुरंत ही अपना असर दिखाना शुरू कर देता है।

2= SHATRU NASHAK MANTRA WITH SANDALWOOD OR SAFFRON TILAK [ चंदन और केसर तिलक के साथ शत्रु नाशक मंत्र ]

You can use this shatru nashak mantra to kill many enemies at once.

इस शत्रु नाशक मंत्र का इस्तेमाल आप एक साथ कई शत्रुओं को मारने में इस्तेमाल करने के लिए कर सकते है।

"Om Bhushak Nasham Sawah"
“ ओम भूषक नाशम सवाह “


You can recite this mantra any day and any time. To prove this shatru nashak mantra, keep a little sandalwood or saffron tilak in front of you and energize it by chanting the above mantra 112251 times. After this, apply this tilak in front of the enemy you want to destroy. As soon as the eyes of the person in front fall on your tilak, it will be ruined in just a few days.

यह मंत्र आप किसी भी दिन और किसी भी समय पढ़ सकते है। इस शत्रु नाशक मंत्र को सिद्ध करने के लिए अपने सामने थोड़ा सा चंदन या केसर का तिलक रख ले और 112251 बार उपरोक्त मंत्र का जाप कर उसे अभिमंत्रित कर ले। इसके बाद जिस शत्रु का आप नाश चाहते है उसके सामने यह तिलक लगाकर चले जाए। जैसे ही सामने वाले व्यक्ति की नज़र आपके तिलक पर पड़ेगी, वह सिर्फ कुछ ही दिनों में बर्बाद हो जाएगा।

3= SHATRU NASHAK MANTRA WITH SALT [ नमक के साथ शत्रु नाशक मंत्र ]

To perform this shatru nashak mantra, blow on the salt box after the completion of 111 chants. You have to do this remedy regularly for seven days. After the seventh day that salt will be energized.

इस शत्रु नाशक मंत्र को करने के लिए 111 जाप पूरी होने के पश्चात नमक की डिब्बी पर फूंक मारे। यह उपाय आपको सात दिन तक नियमित रूप से रोजाना करना है। सातवें दिन के पश्चात वह नमक अभिमंत्रित हो जाएगा।

"Om Tatson Vashim Bhikshho Swaha"
“ ओम तत्सों वशीम भिक्शो स्वाहा ”


To perform this shatru nashak mantra , blow on the salt box after the completion of 111 chants. You have to do this remedy regularly for seven days. After the seventh day that salt will be energized.

इस शत्रु नाशक मंत्र को करने के लिए 111 जाप पूरी होने के पश्चात नमक की डिब्बी पर फूंक मारे। यह उपाय आपको सात दिन तक नियमित रूप से रोजाना करना है। सातवें दिन के पश्चात वह नमक अभिमंत्रित हो जाएगा।

After this, for the remedy to perform this shatru nashak mantra, just feed this salt to that enemy, you want destruction. With the help of this remedy, you can eliminate any enemy in the world.

इसके बाद इस शत्रु नाशक मंत्र को करने का उपाय के लिए बस यह नमक उस शत्रु को खिला देना है, आप नाश चाहते है। इस उपाय की मदद से आप विश्व में किसी भी दुश्मन का खात्मा सकते है।

4= SHATRU NASHAK MANTRA WITH FOUR LATTERS [ चार अक्षरों के साथ शत्रु नाशक मंत्र ]

Today we are telling you this four-letter shatru nashak mantra, it is a very simple mantra and is of only four letters. To use this mantra, you have to keep some white colored clay with you. Now, looking at the enemy you want to destroy, then read the four-letter shatru nashak mantra only 121 times-

यह जो चार अक्षरों वाला शत्रु नाशक मंत्र आज हम आपको बता रहे है, ये बेहद ही सरल मंत्र है और केवल चार अक्षर का है। इस मंत्र को इस्तेमाल करने के लिए अपने पास आपको थोड़ी सी सफ़ेद रंग की मिट्टी रखनी होगी। अब जिस भी शत्रु का आप नाश चाहते है तो उसे देखते हुए चार अक्षरों वाला शत्रु नाशक मंत्र केवल 121 बार पढ़े-

"Om Bhat Kat Swaha"
“ ओम भट कट स्वाहा ”


You have to keep some white colored clay in your hand while chanting the four-syllable Shatru Nashak Mantra. After the completion of chanting 121 times, on any pretext, put the white colored soil of your hand on the enemy, whose destruction you are trying to destroy. As soon as a few particles of white colored clay go on that enemy, it will be destroyed.

चार अक्षरों वाला शत्रु नाशक मंत्र बोलते समय आपको अपने हाथ में थोड़ी सी सफ़ेद रंग की मिट्टी रखनी है। 121 बार मंत्रोच्चारण पूरा होने के बाद किसी भी बहाने से अपने हाथ की सफ़ेद रंग की मिट्टी उस शत्रु के ऊपर डाल दे, जिसका आप नाश चाह रहे है। सफ़ेद रंग की मिट्टी के थोड़े से कण उस शत्रु के ऊपर जाते ही उसका नाश हो जाएगा ।

5= SHATRU NASHAK MANTRA WITH GANGAJAL [ गंगाजल के साथ शत्रु नाशक मंत्र ]

Gangajal is the most important thing to do this Shatru Nashak Kriya, without Gangajal, this Shatru Nashak Mantra will not be complete.

इस शत्रु नाशक क्रिया को करने के लिए सबसे जरूरी गंगाजल है बिना गंगाजल के यह शत्रु नाशक मंत्र संपूर्ण नहीं होगा |

Apart from Gangajal, you will also need seven betel leaves, but keep in mind that all these leaves should be fresh, uncut and broken. First of all, make a paste by mixing Gangajal and a little sandalwood and with the help of that paste, write the mantra given below on each betel leaf with your ring finger.

गंगाजल के अलावा आपको सात पान के पत्ते की भी आवश्यकता पड़ेगी पर ध्यान रहे यह सभी पत्ते एकदम ताजे बिना कटे और टूटे होने चाहिए। सबसे पहले गंगाजल और थोड़ी सी चन्दन मिलाकर एक लेप बनाएं और उस लेप की मदद से अपनी अनामिका उंगली से हर पान के पत्ते के ऊपर नीचे दिए गए मंत्र को लिखें.

"Om Devo Vashimo Namah"
“ ओम देवो वशिमो नमः ”


After writing the mantra, write the full name of the enemy you want to kill below the mantra.

मंत्र लिखने के बाद मंत्र के नीचे उस शत्रु जिसको आप मारना चाहते हैं उसका भी पूरा नाम लिखें |

After writing the name, sit on a secluded place on a white colored seat and keeping each leaf on both your hands, chant the above mantra 151 times and blow it 3 times. That is, you have to chant the mantra a total of 453 times.

नाम लिखने के बाद किसी एकांत स्थान पर सफ़ेद रंग का आसन बिछा कर बैठे और हर पत्ते को अपने दोनों हाथ के ऊपर रखकर ऊपर दिए गए मंत्र का 151 बार जाप करें और 3 बार फूंक मारे। यानी आपको कुल 453 बार मंत्र का जाप करना है।

Inside a glass bottle when your chanting is complete fill Gangajal and put all these betel leaves in that glass bottle and after that put a five coin inside that glass bottle. Now turn this glass bottle over your head 3 times. Now take this glass bottle and keep it in the middle of the door frame of any temple.

जब आप के मंत्र जाप पूरे हो जाएं तब एक कांच की बोतल के अंदर गंगाजल भरे और इन सभी पान के पत्तों को उस कांच की बोतल में डाल दें और उसके बाद उस कांच की बोतल के अंदर एक पाँच का सिक्का अवश्य दाल दें । अब इस कांच की बोतल को अपने सिर के ऊपर से 3 बार घुमाये। अब इस कांच की बोतल को ले जाकर किसी भी मंदिर के चौखट के बीच में रख दें.

Note: - You have to use this Shatru Nashak Mantra on Saturday and you will not have to consume any meat and alcohol on that day.

नोट :- आपको इस शत्रु नाशक मंत्र का प्रयोग शनिवार के दिन करना होगा और उस दिन आपको कोई भी मांस और मदिरा का सेवन नहीं करना होगा |